सब्र – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा (बिन्दु)

न सब्र है
न धेर्य है
यहां सब के सब खुदगर्ज है।
अस्त है
बड़ा व्यस्त है
यहां सब रिश्ते ही त्रस्त है।
न आदर है
न सत्यकार है
यहां हर पल ही तिरस्कार है।
न मुस्कान है
न सम्मान है
यहां पनपता हुआ अहंकार है।
न संकल्प है
न विश्वास है
यहाँ हर दिल पलता स्वार्थ है।
न रंग है
न उमंग है
यहाँ प्रेम का निकलता दम है।

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/10/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 28/10/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 27/10/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 28/10/2017
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 27/10/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 28/10/2017
  4. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 27/10/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 28/10/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 27/10/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 28/10/2017
  6. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 27/10/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 28/10/2017
  7. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 27/10/2017
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 28/10/2017
  8. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 28/10/2017
  9. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 28/10/2017

Leave a Reply