खो रहे संस्कार – अनु महेश्वरी

आधी अधूरी अंग्रेजी बोल, ज्ञानी खुद को है माने,
राम को कहे है देखो रामा,
और वेद को कहे है वेदा|

अपने गलतियों से मुँह मोड़, ज़माने में ढूंढे है ऐब,
हवाएँ तो बहती अब भी वही,
खोट आगई है नियत में ही|

न जाने किस राह पर, चल पड़े है सब,
भूल, अपनी संस्कृति और संस्कृत,
अब तो खो रहे संस्कार भी|

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

14 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/10/2017
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 28/10/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 27/10/2017
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 28/10/2017
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 27/10/2017
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 28/10/2017
  4. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 27/10/2017
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 28/10/2017
  5. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 27/10/2017
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 28/10/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 27/10/2017
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 28/10/2017
  7. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/10/2017
    • ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 28/10/2017

Leave a Reply