नाज़ुक बहुत हैं इश्क़ के धागे…सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

जब भी मिलो तुम, मुस्कुरा के बोलना….
अपनी हकीकत को, छुपा के बोलना….

आईने को झूट कहने से पहले तुम…
नज़र अपनी खुद से, मिला के बोलना…

अपनी  अना  ही, ले  डूबी  थी  रहनुमा…
शुरू हुआ जो नभ पे, थूक उड़ा के बोलना…

तासीर इश्क़ अब, समझ आयी है मुझे…
चुपके  से  रोना, गम  छुपा  के बोलना….

नाज़ुक बहुत हैं, इश्क़ के धागे ‘चँदर’…
छोड़ तिजारत, ईमाँ निभा के बोलना….
\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

अना       –  मैं मैं करना, ईगो
तिजारत  –  व्यापार, धंधा

20 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 25/10/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 25/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 26/10/2017
  3. angel yadav anjali yadav 25/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 26/10/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 26/10/2017
  5. Kajalsoni 25/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 26/10/2017
  6. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 26/10/2017
  7. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 25/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 26/10/2017
  8. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 26/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 27/10/2017
  9. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 26/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 27/10/2017
  10. Meena Bhardwaj meena 26/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 27/10/2017

Leave a Reply