लम्बे रदीफ़ की ग़ज़ल (कज़ा मेरी अगर जो हो)

(सबसे लम्बे रदीफ़ की ग़ज़ल)
काफ़िया=आ
रदीफ़= *मेरी अगर जो हो, तो हो इस देश की खातिर*
1222×4

खता मेरी अगर जो हो, तो हो इस देश की खातिर,
सजा मेरी अगर जो हो, तो हो इस देश की खातिर।

वतन के वास्ते जीना, वतन के वास्ते मरना,
वफ़ा मेरी अगर जो हो, तो हो इस देश की खातिर।

नशा ये देश-भक्ति का, रखे चौड़ी सदा छाती,
अना मेरी अगर जो हो, तो हो इस देश की खातिर।

रहे चोटी खुली मेरी, वतन में भूख है जब तक,
शिखा मेरी अगर जो हो, तो हो इस देश की खातिर।

गरीबों के सदा हक़ में, उठा आवाज़ जीता हूँ,
सदा मेरी अगर जो हो, तो हो इस देश की खातिर।

रखूँ जिंदा शहीदों को, निभा किरदार मैं उनका,
अदा मेरी अगर जो हो, तो हो इस देश की खातिर।

मेरी मर्जी तो ये केवल, बढ़े ये देश आगे ही,
रज़ा मेरी अगर जो हो, तो हो इस देश की खातिर।

रहे रोशन सदा सब से, वतन का नाम हे भगवन,
दुआ मेरी अगर जो हो, तो हो इस देश की खातिर।

चढ़ातें सीस माटी को, ‘नमन’ वे सब अमर होते,
कज़ा मेरी अगर जो हो, तो हो इस देश की खातिर।

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’
तिनसुकिया।

11 Comments

  1. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 23/10/2017
    • Basudeo Agarwal Basudeo Agarwal 28/10/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir 23/10/2017
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 24/10/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 24/10/2017
    • Basudeo Agarwal Basudeo Agarwal 28/10/2017
  5. Madhu tiwari Madhu tiwari 24/10/2017
  6. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 24/10/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/10/2017
    • Basudeo Agarwal Basudeo Agarwal 28/10/2017
  8. Kajalsoni 25/10/2017

Leave a Reply