दिल की सदाओं से – शिशिर मधुकर

ढूंढे से गर मुहब्बत जो हर इंसान को मिल जाए
जीवन की सूनी बगिया खुद ब खुद खिल जाए

मुहब्बत की इस दवा का असर ही कुछ ऐसा है
गहरे से गहरा घाव भी आसानी से सिल जाए

मुहब्बत की ताकत में एक ऐसा भी करिश्मा है
दिल की सदाओं से तो पर्वत यहाँ हिल जाए

आँखों के रास्ते जो भी जन दिल में समाता है
ऐसा तो नहीं होता वो बस भीड़ में रिल जाए

उल्फ़त की राहों में सदा मधुकर चलो सम्भल के
चोट कोई सूखी यहाँ फिर से ना छिल जाए

शिशिर मधुकर

16 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 21/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/10/2017
  2. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 21/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/10/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 22/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/10/2017
  4. C.M. Sharma C.M. Sharma 22/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/10/2017
  5. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 22/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/10/2017
  6. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 23/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir 23/10/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/10/2017
  8. Meena Bhardwaj meena 26/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/10/2017

Leave a Reply