दुनिया

नजर.के सहारे चला जा रहा हूँ।

कोई बता दे कहाँ जा रहा हूँ।

दुनिया अजब सा तिलिस्मी सफर है,

जहाँ जा रहा हूँ वहीं आ रहा हूँ।

 

2 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 21/10/2017
    • Vimal Kumar Shukla Vimal Kumar Shukla 10/12/2017

Leave a Reply