‘अमन दीप’ जलाएं – रामगोपाल सांखला ‘गोपी’

फैला है जग में भय का अंधियारा

कहां ओझल हुआ है उजियारा

क्‍यों फिरता है मनुज मारा-मारा

क्‍यों हारता जाता है सर्वहारा

सत्‍कर्म कर मानवता को जीत दिलाएं

दीप पर्व पर हम सब ‘अमन दीप’ जलाएं

पसरा है आतंक विश्‍वभर में

कौन सुरक्षित है अपने घर में

मौन क्‍यों है यह जग सारा

‘आतंक का अंत’ बनाएं लक्ष्‍य हमारा

जवाब दें करारा, आतंकी बौखलाएं

दीप पर्व पर हम सब ‘अमन दीप’ जलाएं

क्‍यों है इनको इतना अभिमान

क्‍यों मनुज बन रहा हैवान

सर्वत्र फैलाएं अमन का सन्‍देश

आतंक समाप्‍त कर बने समृध्‍द यह देश

लिखे ‘गोपी’ अभिनव रचनाएं

दीप पर्व पर हम सब ‘अमन दीप’ जलाएं

रामगोपाल सांखला ‘गोपी’

9 Comments

    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 19/10/2017
  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 18/10/2017
  2. sarvajit singh sarvajit singh 18/10/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 18/10/2017
  4. SALIM RAZA REWA SALIM RAZA REWA 18/10/2017
  5. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 19/10/2017
  6. डी. के. निवातिया dknivatiya 19/10/2017
  7. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/10/2017

Leave a Reply