कुछ लम्हें – कुछ पल – सोनू सहगम

सोनू सहगम

सोनू सहगम

-: कुछ लम्हें –कुछ पल :-

उसने धीरे से बेड से उठते हुए
फुसफुसाकर कहा मेरे कान में
क्या तुमको वो लम्हा याद है,
जब हम मिले थे पहली बार
अनवर चाचा की दुकान में
तुम्हे याद है मैंने पिंक दुपट्टे के साथ
उस दिन वाइट सूट पहना था
और तुम ठीक मेरे पीछे खड़े थे
तुमने एक बार कहा था,
कि तुमको मेरे रेशमी बाल,
उस दिन बहुत अच्छे लगे थे
न जाने कैसे उस रोज कंधे से,
मेरा दुपट्टा गिरने लगा था
पलट कर जो देखा घबराहट से,
तुमने बड़े प्यार से उसे
अपने हाथों में थाम लिया था
उस एक पल ने मुझे बताया
कितनी केयर है तुम्हे दूसरों की,
तुम्ही हो वो जो दिखता है,
है जो तस्वीर मेरे ख्वाबों की,
जैसे ही तुमने प्यार भरी पलकें उठाई
और देखा मेरी आँखों में,
झुक गयी थी मेरी पलकें, मैं शरमाई
रिदम प्यार की दौड़ी मेरी सांसों में,
उस पल के बाद हम रोज मिलने लगे
प्यार के फूल , हमसफ़र में बदलने लगे
तुम्हे याद है -जब तुमने मुझे
अपनी माँ से मिलवाया था,
मेरे शोर्ट कट और हेयर कट देख,
तुम्हारी माँ ने एतराज जताया था
डर गयी थी, फिर तुमने आकर,
अपने सीने से लगा, मुझे समझाया था
मेरी माँ संस्कारी और उन्हें संस्कारी बहु की आस है
पर, मैं जनता हूँ मेरी प्रिये,
तुम जीत लोगी माँ का मन, मुझे पूर्ण विश्वास है
अगली बार जब माँ ने मुझे साड़ी में देखा,
मेरे लम्बे घने बालो को छुकर बार बार देखा,
माँ ने तब, मेरे गालों पर चुंबन किया था
तुम ही बनोगी मेरी बहु, वचन दिया था…….क्रमश:

(कहानी अभी बाकि है मेरे दोस्त – लेखकसोनू सहगम )

9 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 17/10/2017
    • Sonu Sahgam Sonu Sahgam 27/10/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/10/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 17/10/2017
    • Sonu Sahgam Sonu Sahgam 27/10/2017
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 17/10/2017
    • Sonu Sahgam Sonu Sahgam 27/10/2017
    • Sonu Sahgam Sonu Sahgam 27/10/2017

Leave a Reply