उडा़नो को हम ढूँढते हैं

न जाने ज़िन्दगी में हम क्या ढूँढते हैं
बहारों का हर पल पता ढूँढते हैं

कैसी अजब कश्मकश है यह
पर नहीं हैं लेकिन,उड़ानों को ढूँढते हैं

नहीं चलता जो़र वक़्त पर किसी का
कहानियों में अब खु़द को ढूँढते हैं

चला आ रहा यह सिलसिला जाने कैसा
राख के ढेर में दबे अँगारों को ढूँढते हैं

अनजान रास्तों पर चले जा रहे हैं
बीते हुए कल के निशाँ ढूँढते हैं

न जाने ज़िन्दगी में हम क्या ढूँढते हैं
प्यार के चमन को कहाँ २ ढूँढते हैं
पर नहीं और उडा़नो का पता ढूँढते हैं

19 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 13/10/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 13/10/2017
  2. md. juber husain md. juber husain 13/10/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 13/10/2017
  3. sarvajit singh sarvajit singh 13/10/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 13/10/2017
  4. C.M. Sharma C.M. Sharma 13/10/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 13/10/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 13/10/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 13/10/2017
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 13/10/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 13/10/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/10/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 13/10/2017
  8. Madhu tiwari Madhu tiwari 13/10/2017
    • Madhu tiwari Madhu tiwari 13/10/2017
      • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 13/10/2017
  9. Arun Kant Shukla अरुण कान्त शुक्ला 14/10/2017
  10. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 14/10/2017

Leave a Reply