बंद मुठ्ठी की बस ज़मी सी है…सी.एम्.शर्मा (बब्बू)..

रोज़ मरने की……..जुस्तजू की है….
आपसे मिलके ही….ज़िन्दगी जी है…

हर किसी सी………..चाह है न मेरी…
बंद मुठ्ठी की बस………..ज़मी सी है…

वो मिला दिन चार का…… साथ रहा…
कैसे कह दूँ वो…….. अजनबी ही है…

मन न मानें तो करूं क्या…..ये बता…
कर दे धोका जिसकी….बंदगी की है…

अपने हाथों से जला ख़त…….जाना…
मौत से पहले ………ख़ुदकुशी की है….
\
/सी.एम्.शर्मा (बब्बू)

14 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 12/10/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/10/2017
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/10/2017
  4. Arun Kant Shukla Arun Kant Shukla 12/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 13/10/2017
  5. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 12/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 13/10/2017
  6. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 13/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 13/10/2017
  7. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 13/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 13/10/2017
  8. sarvajit singh sarvajit singh 13/10/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 13/10/2017

Leave a Reply