मेरी आँखों में किरदार नजर आता है

मेरी आँखों में किरदार नजर आता है

रँगे फलक यार का दीदार नजर आता है

 

पर्वत जैसी रात कटी कैसे पूछो मत

आसमाँ फूलों का तरफदार नजर आता है

 

सर्द पवन पहले लगता था मुझे गुलाबी

अब तो सनका-सा फनकार नजर आता है

 

माँगे भीख नहीं छीनो जो चाहे ले लो

यह कहना हमको दमदार नजर आता है

 

तुमसे बिछड़ी भूल हो गई ‘तारा’ की

उनका चेहरा सपनों में हर बार नजर आता है

 

हृदय मिले तो मिलते रहना अच्छा है

वक्त के संग – संग चलते रहना अच्छा है

 

गम का दरिया अगर जिन्दगी को समझो

धार के संग – संग बहते रहना अच्छा है

 

खुदा मदद करता उनकी जो खुद की करते

हिम्मत से खुद बढते रहना अच्छा है

 

अगर विश्व है, मंदिर-मस्जिद के अधीन

नियमित मंत्रों का जपते रहना अच्छा है

 

ठीक नहीं नजरों का फासला ‘तारा’ से

चाँद अंजुरी में उगते रहना अच्छा है

Leave a Reply