कब नीर बहेगा आँखों में ?

सागर कब सीमित होगा
फिर से वो जीवित होगा
आग जलेगी जब उसके अंदर
प्रकाश फिर अपरिमित होगा ||
सूरज से आँख मिलाएगा
कब तक झूमेगा रातों में ?
कब नीर बहेगा आँखों में ?

छिपा कहाँ आक्रोश रहेगा
देखो कब तक खामोश रहेगा
ज्वार किसी दिन उमड़ेगा
सीमाएं सारी तोड़ेगा
वो सच तुमको बतलायेगा
बातों से आग लगायेगा
एक धनुष बनेगा बातों का
बातों के तीर चलायेगा
कोई समझकर पुल गुजरेगा
कोई फसा रहेगा बातों में
कब नीर बहेगा आँखों में ?

6 Comments

  1. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 07/10/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 07/10/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 07/10/2017

Leave a Reply