ऐसा था तेरा -मेरा प्यार

शीर्षक-ऐसा था तेरा-मेरा प्यार
तेरा मेरा प्यार
पहली नजर का प्यार
नजरो का नजरो से करार
कभी धड़कने बढाती
कभी जिया चुराती
कभी बजाती पायल की झंकार
ऐसा था तेरा-मेरा प्यार
कॉलेज में बैठा करता था
तेरा बस तेरा इंतज़ार
कक्षा में बैठ तुम
बाले झटकती,धीमे-धीमे मुस्कुराती
कभी शर्माती
कभी अजनबी बन जाती
कक्षा की आखरी घंटी
होती कॉलेज में छुट्टी
तुम सखियों संग आगे बढती जाती
पीछे मुड़-मुड़ कर नजरो के बाण चलाती
दिल बेचारा घायल हो जाता
तुम्हे छोड़ने मुहल्ले की आखरी नुक्कड़ तक जाता
तुम होती तो मैं कुछ कह नहीं पता
आखिर कैसे बताता
मेरी नजरो का था तुमसे करार
चाहते होती थी बेशुमार
मिन्नतें खुदा से बार –बार
बना लूँ तुझे अपनी ज़िन्दगी
बना लूँ तुझे अपना प्यार
ऐसा था तेरा-मेरा प्यार—-अभिषेक राजहंस

4 Comments

  1. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 06/10/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 06/10/2017
  3. sarvajit singh sarvajit singh 06/10/2017

Leave a Reply