विजयादशमी –…….मधु तिवारी

💐 विजयादशमी 💐

नौ दिन की शक्ति पूजा ने
शक्ति दिया था राम को
भवानी के आशीर्वाद ने
पूर्ण किया था काम को

दसवें दिन संकल्पित,हर्षित
प्रभु चले रण जीतने को
संशय ,भ्रम हटाने औऱ
निराशा से मन रीतने को

मात सीया को मुक्त कराना
ये तो एक बहाना था
श्रम,संघर्ष, दृढ़ निश्चय का
मूल्य सबको बताना था

किया वध जिस पापी का
लंकापति वह रावण था
मुदित जगत ने पर्व मनाया
वह विजयादशमी पावन था

मर्यादा स्थापित करने
प्रभु इस जग मे आए थे
मर्यादा पुरुषोत्तम फिर
वे जग मे कहलाए थे

संकल्प करें इस पर्व मे
अत्याचार मिटाने का
निर्भय औऱ निष्पाप देश
अपने भारत को बनाने का

हे प्रभु ! रघुनन्दन राम
पुनः हम पर कृपा करो
कई पीड़ा से जूझ रहे
जन मन का फिर कष्ट हरो

कवयित्री-मधु तिवारी
ग्राम-कपसदा,जिला-दुर्ग छत्तीसगढ़

18 Comments

  1. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 01/10/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 01/10/2017
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 01/10/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/10/2017
  5. sarvajit singh sarvajit singh 01/10/2017
  6. Aman Nain Aman Nain 02/10/2017
  7. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 03/10/2017
  8. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 03/10/2017

Leave a Reply