सच जान कर – शिशिर मधुकर

सच जान कर जीवन के जो फिर प्यार करते हैं
दूर रह कर भी वो तो नज़रों से दुलार करते हैं

लाख दुखड़े हों झोली में छवि मन में जो बस जाए
उसी को देख कर दीवानें जन श्रॄंगार करते हैं

बुरा कितना भी कह लो तुम किसी के सामने उनको
मुहब्बत वो ना छोडेंगे जो भी ऐतबार करते हैं

मेरी आँखों में आंसू देख कर जो तंज़ कसते हैं
वो क्या समझेंगे दर्द मुहब्बत का जो व्यापार करते हैं

मोह माया के बंधन तोड़ना आसां नहीं मधुकर
यही लोगों को उल्फ़त में अक्सर लाचार करते हैं

शिशिर मधुकर

12 Comments

  1. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 28/09/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/09/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/09/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/09/2017
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 28/09/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/09/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/09/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/09/2017
  5. sarvajit singh sarvajit singh 29/09/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/09/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 01/10/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/10/2017

Leave a Reply