गुस्सा

अगर खुंदक हो मन में
तो अपनापन ना जताया करो
अगर बुझाना हो दिए तो बुझा दो
मगर बुझे को ना जलाया करो।

मैं जानता हूँ कि तुम कितने ड्रामेबाज हो
हमसे ऐसे न बहाना बनाया करो
अगर सताना हो तो जी भर सतालो
मगर हँसे को ना रुलाया करो।

किसी और से सुना हैं
मैं मोहताज हूँ तेरा
अगर मेरे हर बात से होती है जलन
तो मुझसे आकर कहो
किसी और को यू न बताया करो।

***मु.जुबेर हुसैन

10 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 27/09/2017
    • md. juber husain md. juber husain 04/10/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 27/09/2017
    • md. juber husain md. juber husain 04/10/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/09/2017
    • md. juber husain md. juber husain 04/10/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 27/09/2017
    • md. juber husain md. juber husain 04/10/2017
  5. Madhu tiwari Madhu tiwari 01/10/2017
    • md. juber husain md. juber husain 04/10/2017

Leave a Reply