भारत देश है मेरा

शीर्षक-भारत देश है मेरा
जहाँ सात रंगों सी सतरंगी मिट्टी
जहाँ बारिश में नाचते मोर
हवाएं बहती जहाँ पुरजोर
जहाँ सूरज धुप की पीठ थपथपाये
जहाँ किसान खेतो में हल चलाये
जहाँ पंछी करते कलरव चारो ओर
जहाँ पत्नियां खेतो पे खाना पहुंचाती
जहाँ बहने दूर गाँव से राखी बाँधने आती
जहाँ माताएं आँचल की ओट से बच्चो को दूध पिलाती
जहाँ मिट्टी के खपड़ो में लाबा भुजे जाते
जहाँ हरी मिर्च को तोते चटखारे ले कर खाते
जहाँ आँगन की मुंडेर में कौआ कॉव-कॉव करता
ऐसा गाँव है मेरा
ऐसा देश है मेरा
भारत देश है मेरा—अभिषेक राजहंस

3 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 27/09/2017
  2. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 27/09/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 01/10/2017

Leave a Reply