मैं प्यार करता हूँ

मैं हर पल बस तुझको ही याद करता हूँ
खुदा से तेरे सोहबत का
फ़रियाद करता हूँ
मैं प्यार करता हूँ
मैं तेरा प्यार बनता हूँ
गजले गीत मोहब्बत की
मैं तुझपे लिखता हूँ
घर की चौखट में बैठ
दिन को रात करता हूँ
तेरा इंतज़ार करता हूँ
मैं प्यार करता हूँ
मैं खुदा से अर्जी करता हूँ
मैं मनमर्जी करता हूँ
तुझे देखने की चाहत में
मैं परिंदा बना रहता हूँ
तेरी साँसों से जिंदा रहता हूँ
मैं धरती से अम्बर तक
तेरा प्यार ढूंढता हूँ
मैं हर आईने में
तेरा अक्स ढूंढता हूँ
मैं तेरे प्यार में
कवि बना फिरता हूँ
मैं प्यार करता हूँ
तेरा इंतज़ार करता हूँ—अभिषेक राजहंस

7 Comments

  1. chandramohan kisku chandramohan kisku 25/09/2017
    • Abhishek Rajhans 27/09/2017
  2. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 25/09/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 25/09/2017
  4. sarvajit singh sarvajit singh 25/09/2017
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 26/09/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/09/2017

Leave a Reply