माता के दरबार में – अनु महेश्वरी

माता के दरबार में,
सब की झोली भरती है|

गरीब हो या हो अमीर,
छोटा हो, या हो बड़ा,
भक्ति भाव से जो भी आए,
खाली हाथ, यहाँ से न जाए|

माता के दरबार में,
सब की झोली भरती है|

सबका करती बेड़ा पार,
तेरे भी सब कष्ट हरेंगी,
बस माता को, याद करो,
पुरे लगन से, ध्यान धरो|

माता के दरबार में तो,
सब की झोली भरती है|

मन है अगर सच्चा तेरा,
भक्ति भी, सार्थक होगी,
भक्ति भाव से जो भी आए,
खाली हाथ यहाँ से न जाए|

माता के दरबार में,
सब की झोली भरती है|

 

अनु महेश्वरी
चेन्नई

13 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 21/09/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 21/09/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/09/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/09/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/09/2017
  4. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 22/09/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/09/2017
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 22/09/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/09/2017
  6. Rinki Raut Rinki Raut 22/09/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/09/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 22/09/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/09/2017

Leave a Reply