मैं नारी हूँ

मैं नहीं अब अबला नारी हूँ
मैं धरा धरणी मैं पालन हारी हूँ
मैं आग हूँ , चिंगारी हूँ
मैं नहीं अब कन्या कुमारी हूँ
मैं जनक की हलधारणी सीता हूँ
मैं महाभारत की द्रौपदी
मैं श्रीकृष्ण की गीता हूँ
मैं ही शैलपुत्री मैं ब्रह्मचारिणी
मैं स्वाभिमानी मैं मर्दानी
मैं झाँसी वाली रानी
नारायण की नारायणी
मैं ही वीणापाणी हूँ
नरो के बीच मैं नारी हूँ
मैं पुरुषो पर भारी हूँ
मैं माता , बहन पुत्री नहीं
मेरी पहचान
पिता, पति ,पुत्र से नहीं
मैं अपनों कर्मो से जानी हूँ
मैं लेखिका , कवियत्री, नेत्री
गायिका, धाविका , अभिनेत्री
मैं नहीं अब अबला नारी
मैं आग हूँ , चिंगारी हूँ
कर्णम मल्लेश्वरी बन
भारत को भुजाओं से उठायी
ऐश्वर्य सुस्मिता प्रियंका लारा
बन भारत की सुन्दरता दिखलाई
मैं नहीं अब अबला नारी
मैं नहीं अब कन्या कुमारी
मैं सृजनी मैं ही विनाशनी
मैं कामधेनु मैं नंदिनी
मैं गर्ज़नी मैं कल्याणी
मैं नीरजा बन इतिहास बनायीं
मैं कल्पना , सुनीता बन
अन्तरिक्ष में भारत को पहचान दिलाई
सिन्धु , साइना , साक्षी बन
ओलिंपिक में मेडले दिलवाई
मैं व्यापारी मैं कारोबारी हूँ
मैं पेप्सिको की इंदिरा
मैं चन्दा कोचर हूँ
मैं नरो के बीच नारी हूँ
मैं आग हूँ चिंगारी हूँ—-अभिषेक राजहंस

3 Comments

  1. Ram Gopal Sankhla रामगोपाल सांखला ''गोपी'' 19/09/2017
    • Abhishek Rajhans 19/09/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/09/2017

Leave a Reply