मैं बदली हूँ, बस नीर भरी…सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

मैं बदली हूँ, बस नीर भरी…
बिन बरसे, बरसूं हर घडी…
मैं बदली हूँ बस नीर भरी…

सावन आये लाये बौछार..
शोलों सा वो करें प्रहार…
मन मेरा करे है चित्कार…
नादाँ,तू क्यूँ है प्रीत करी…
मैं बदली हूँ बस नीर भरी…

पपीहा मेरा चंचल मन…
बंजर हो गया मेरा तन…
सागर की चाह नहीं है…
तेरे प्यार की बूँद बड़ी…
मैं बदली हूँ बस नीर भरी…

चमके बिजली चूड़ी तिड़के..
रूह मेरी को चीरती जाए..
ऋतू आये ऋतू जाए,पर है..
दिल हारे की हार बुरी…
मैं बदली हूँ बस नीर भरी…

ऋतू बसंत भी मन मुरझाये..
तेरी याद में सांसें थम जाएँ…
ज्यों फूल से है खुशबू जाए..
बिन रूह जीये ये इश्क़जली…
मैं बदली हूँ बस नीर भरी…

कोयल आये गीत सुनाये…
तेरे आने की आस बँधाये..
मन दर्पण पे साये उभरते..
तन मन जले विरह अग्नि…
मैं बदली हूँ बस नीर भरी…

मन पगला घुमड़ रह जाए..
चटक चटक चूड़ी ये जाए..
माथे मेरे बिंदिया न सुहाए..
ये इश्क़ रीत है बहुत बुरी…

मैं बदली हूँ बस नीर भरी…
बिन बरसे, बरसूं हर घडी…
\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

10 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/09/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 22/09/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 19/09/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 22/09/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 19/09/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 22/09/2017
  4. Meena Bhardwaj meena 20/09/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 22/09/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/09/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 22/09/2017

Leave a Reply