मशगूल — डी के निवातिया

 मशगूल

***

हंसगुल्लों  में मशगूल है जिंदगानी
मतलब की बातो के लिये वक़्त किसके पास !
जब अपने ही नकार देते है अपनों को
टुटा हुआ नर्वस दिल फिर लगाए किससे आस !!

!
!
!
डी के निवातिया

10 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 18/09/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/10/2017
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 18/09/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/10/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/09/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/10/2017
  4. C.M. Sharma C.M. Sharma 19/09/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/10/2017
  5. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 19/09/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 12/10/2017

Leave a Reply