मैं आधुनिक नारी हूँ

मै अबला नादान नहीं हूँ
दबी हुई पहचान नहीं हूँ
मै स्वाभिमान से जीती हूँ
रखती अंदर ख़ुद्दारी हूँ
मै आधुनिक नारी हूँ

पुरुष प्रधान जगत में मैंने
अपना लोहा मनवाया
जो काम मर्द करते आये
हर काम वो करके दिखलाया
मै आज स्वर्णिम अतीत सदृश
फिर से पुरुषों पर भारी हूँ
मैं आधुनिक नारी हूँ

मैं सीमा से हिमालय तक हूँ
औऱ खेल मैदानों तक हूँ
मै माता,बहन और पुत्री हूँ
मैं लेखक और कवयित्री हूँ
अपने भुजबल से जीती हूँ
बिजनेस लेडी, व्यापारी हूँ
मैं आधुनिक नारी हूँ

जिस युग में दोनो नर-नारी
कदम मिला चलते होंगे
मै उस भविष्य स्वर्णिम युग की
एक आशा की चिंगारी हूँ
मैं आधुनिक नारी हूँ

— रणदीप चौधरी ‘भरतपुरिया’
https://www.facebook.com/profile.php?id=100007871432762

11 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 15/09/2017
    • रणदीप चौधरी 'भरतपुरिया' Randeep Choudhary 15/09/2017
  2. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 16/09/2017
    • रणदीप चौधरी 'भरतपुरिया' Randeep Choudhary 16/09/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/09/2017
    • रणदीप चौधरी 'भरतपुरिया' Randeep Choudhary 16/09/2017
  4. C.M. Sharma C.M. Sharma 16/09/2017
    • रणदीप चौधरी 'भरतपुरिया' Randeep Choudhary 16/09/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/09/2017
  6. chandramohan kisku chandramohan kisku 19/09/2017

Leave a Reply