हिंदी दिवस


मुक्त करो जंजीरों से हे व्यवस्था के सरदारों
मैं हूँ हिंदी मातृभाषा मेरा रूप मिलकर संवारों
घर के तिरष्कारों ने पराया बना दिया मुझको
जागो युवाओं अब तुम ही मेरे चरण पखारो.

विजय कुमार सिंह
vijaykumarsinghblog.wordpress.com

10 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 14/09/2017
  2. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 14/09/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 14/09/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/09/2017
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 15/09/2017
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 15/09/2017

Leave a Reply