अगर फूल-काँटे में फरक हम समझते

अगर फूल-काँटे में फर्क हम समझते
बेवफा तुमसे मुहब्बत न हम करते

 

जो मालूम होता अन्जामे-उल्फत 
यूँ उल्फत से गले न हम लगते

 

बहुत दे चुके हैं इन्तहाएं मुहब्बत 
न होती मजबूरियाँ, शिकायत न हम करते

 

अगर होता मुमकिन तुम्हें भूल जाना
खुदा की कसम मुहब्बते-खत न हम लिखते

 

जो मालूम होता, मुहब्बते बरबादी में तुम भी हो 
शामिल, तो एहदे मुहब्बत न हम करते

Leave a Reply