“चौका”- भ्रमजाल….सी. एम्. शर्मा (बब्बू)…

II जापानी विधा “चौका” II

मन का भ्रम
संबंधों में दरार
दंब प्रहार
छिन्न भिन्न संसार

फैसला हुआ
अपने पराये का
तेरा ओ मेरा
खून भी बंट गया

अंध विश्वास
लुट गया संसार
भ्रम का जाल
गैरों पे ऐतबार

विश्वास रखो
परखने की छोडो
हो सहभागी
अनमोल है प्यार

\
/सी. एम्. शर्मा (बब्बू)

(५-७-५-७ में लिखी जाने वाली विधा)

14 Comments

  1. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 13/09/2017
    • C.M. Sharma babucm 13/09/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/09/2017
    • C.M. Sharma babucm 13/09/2017
      • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/09/2017
        • C.M. Sharma babucm 14/09/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 13/09/2017
    • C.M. Sharma babucm 14/09/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 13/09/2017
    • C.M. Sharma babucm 14/09/2017
    • C.M. Sharma babucm 14/09/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 14/09/2017
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 16/09/2017

Leave a Reply