कौआ और गिद्ध (मुक्ता शर्मा)

                कौआ और गिद्ध

निर्जीव का माँस नोचने वाले

दुर्गंध में जीने वाले                                  एक जैसे,पर दिखने में अलग.                     देखो गिद्ध और कौआ एक डाल पर बैठे हैं||    

                                  शायद योजना है बन रही                     कि ढूंढे शिकार कहाँ?                              ताज़ा या बासी                                       इसी उधेड़ बुन में रहते हैं                           देखो गिद्ध और कौआ एक डाल पर बैठे हैं||   

 

शायद लालच देकर गोश्त का                     चाहता काम निकलवाना है                        तभी ,देखो ! गिद्ध और कौआ एक डाल पर बैठे हैं||   

 

एक दिन उस विशाल को    

मिला एक अलबेला पंछी छुटकु सा

फूलों से रस निकालता

सुंदर कमर मटकाता सा

हैरान हो गिद्ध ने पूछा, यह है कौन?

यही बतियाते ,गिद्ध और कौआ एक डाल पर बैठे हैं ||

 

शिकार उसका करना चाहा

शायद शहद से भरा हो यह

जा लेकर आ ! किसी बहाने

यही राह बनाते ,गिद्ध और कौआ एक डाल पर बैठे हैं||

 

मध्यम ने कहा ,आका !

वो तो है मासूम सा हम्मिंग पंछी

सुई चोंच तो देखो

कहीं हमारा रस न बिखर जाए

छोड़ो इसे ,यही समझाते

कौआ और गिद्ध एक डाल पर बैठे हैं||

अहंकारी न माना

और विशाल पंखों के नीचे

छुपा लाया||

लहू ही लहू था ,गिर रहा

कामयाब है गिद्ध ,इस कौओं_ गिद्धों की दुनिया में ,

तभी बहुत शोर से कुछ भारी गिरा थपाक !! से,                                                     तभी छुटकु सा नन्हीं धड़कन संभाले लगा फिर फूल रस ढूंढने                           

अब अकेला कौआ एक डाल पर बैठा है ||   

       

                 मुक् ता शर्मा

                                                                                                                                                                                    

10 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 11/09/2017
    • mukta mukta 13/09/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/09/2017
    • mukta mukta 13/09/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 11/09/2017
    • mukta mukta 13/09/2017
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 11/09/2017
    • mukta mukta 13/09/2017
    • mukta mukta 13/09/2017

Leave a Reply