दर्द की व्याकरण

क्या पढें दर्द की व्याकरण,
ज़िंदगी है कटा अवतरण ।

रूप का, आयु का, साँस का,
आज होता न एकीकरण ।

मोह किससे कहाँ तक रहे ?
बँध न पाते नयन से चरण ।

सत्य की बात कैसे कहें ?
आवरण ही यहाँ आवरण ।

जो भटकते रहे उम्र भर,
आँकते हैं वही आचरण ।

वे अहम् के गगन छू रहे,
पाँव से कट चुकी है धरणि ।

रेत है, शंख है, आदमी –
धुँध के बीच खोयी किरण ।

Leave a Reply