फूलो के इम्तिहान का

कवि: शिवदत्त श्रोत्रिय

मंदिर में काटों ने अपनी जगह बना ली
वक़्त आ गया है फूलो के इम्तिहान का  ||

सूरत बदलने की कल वो बात करता था
लापता है पता आज उसके मकान का ||

निगाह उठी आज तो महसूस करता हूँ
लाल सा दिखने लगा रंग आसमान का ||

लुटेरों की हुक़ूमत जहाजों पर हो गयी
अंदाजा किसे है दरिया के नुकसान का ||

आइना कहाँ दुनियाँ की नजर में  “शिव”
अपने ही सबूत मांगते तेरी पहचान का ||

8 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/09/2017
    • shivdutt 07/09/2017
  2. C.M. Sharma babucm 08/09/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 08/09/2017

Leave a Reply