शेष है : गोपी

सुर ताल में चली जाए जिन्‍दगी

लय मगर आना शेष है

दरिया है आग का जिन्‍दगी

पार मगर जाना शेष है

रग रग में है ”राधा” कृष्‍ण के

गोपी का निश्‍छल प्रेम शेष है

देता कोई  अनुपम आनन्‍द

मगर  परमानन्‍द अभी शेष है

वीणा सा झंकृत हुआ है मन

राग मगर कोई बजना शेष है

 

रामगोपाल सांखला ”गोपी”

15 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/09/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 13/09/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 06/09/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 13/09/2017
  3. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 07/09/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 13/09/2017
  4. C.M. Sharma babucm 07/09/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 13/09/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/09/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 13/09/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 13/09/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 08/09/2017
    • Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 13/09/2017
  7. Ram Gopal Sankhla Ram Gopal Sankhla 13/09/2017

Leave a Reply