गुरू चरणन में….सी. एम्. शर्मा (बब्बू)….

II  छंद – सरसी  II

घूम  फिराया  मैं  जग सारा,  ना मिटा अंधियार   I
लीनी शरण गुरू की जब मैं, हुआ तमस से पार II
मैं  गुर का,  हुआ गुरु मेरा,  पकड़ा गुर ने हाथ    I
बन चन्दन, मन महके मेरा, मिला गुरू का साथ II
मिला  गुरू का साथ मुझे जो, हुआ मेरा उद्धार    I
तृष्णा  छूटी, प्रसाद पाया,  गुर के चरण पखार    II
\
/सी. एम्. शर्मा (बब्बू)

12 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/09/2017
    • C.M. Sharma babucm 07/09/2017
  2. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 06/09/2017
    • C.M. Sharma babucm 07/09/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 06/09/2017
    • C.M. Sharma babucm 07/09/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/09/2017
    • C.M. Sharma babucm 08/09/2017
  5. shivdutt 07/09/2017
    • C.M. Sharma babucm 08/09/2017
    • C.M. Sharma babucm 09/09/2017

Leave a Reply