एक जवान होता है ( पर दोबारा गौर )

एक जवान होता है ( पर दोबारा गौर )

आ रखी हो कहीं बाढ़
या हिमाचल के ऊँचे पहाड़
मणिपुर के घने जंगलो की रात
या फिर गुजार रहा हो कोई
कुछ दिन जाके गुजरात
हर कोई नींद चैन की सोता है
क्योंकि हर जगह तैनात
एक जवान होता है

नेपाल में आई बाढ़ हो (2015)
या फिसले उत्तराखंड के पहाड़ हो (2013 )
घुस आया हो कोई कारगिल पार (1999 )
या कुछ लोगो ने बनाया हो
किसी पूज्यस्थान को अपना हथियार (1984 )
जब लोगो ने लगायी मदद की गुहार
तब भी बचाने के लिए रहता तैयार
एक जवान होता है

राष्ट्रपति ने संभाल रखी जिसकी कमान है
वो सेना देश का सम्मान है
युद्ध लड़ना ही नहीं , यहाँ सेना का काम
बचाना भी लोगो की जान है
उसके हर एक जवान पर हमें अभिमान है
क्योंकि ये मुल्क सिर्फ़ मुल्क नहीं
ये हिंदुस्तान है

द्वारा – मोहित सिंह चाहर ‘हित’

6 Comments

  1. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 05/09/2017
  2. C.M. Sharma babucm 05/09/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 05/09/2017
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 05/09/2017
  5. hitishere Mohit Chahar 05/09/2017

Leave a Reply