आवाज़ तो दो

आवाज तो दो,,,,

इन हवाओं में छन फिजाओं में
लहरों की तरंगों में
जरा साज तो दो
जरा आवाज़ तो दो,,,,,

क़दमो की आहट से
पायल की आवाज़ से
ये मन ठहर सा गया
ठहरे हुए मन को आस तो दो
जरा आवाज़ तो दो,,,,,,

आँखे चमक सी गई
दिल धड़क सा गया
साँसे थम सी गई
थमी हुई साँसों को साँस तो दो
जरा आवाज़ तो दो,,,,,,,

नज़र दूर तक जाए
बस तुम्हें ही तालसे
ना मिला तू ,दिल टूट सा गया
जरा आवाज़ तो दो,,,,,,

~💝मु.जुबेर हुसैन

6 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/09/2017
  2. md. juber husain md. juber husain 01/09/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 01/09/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/09/2017
  5. C.M. Sharma babucm 02/09/2017

Leave a Reply