कुछ पल,,,,

•`•`•`•`•`•`• *कुछ पल `•`•`•`•`•`•`•

वह शख़्स जो इस दुनिया से ही चला जाता है।

उस तक को नही पता होता कि कहाँ जाता है।

  • `•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•

स्वर्ग   तक   पहुँचाने   दुआएँ   चलती  रहती।

धुँआ है आस्मां नही पता ये रास्ता कहाँ जाता है।

  • `•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•

बहुत  बिलख़ते  है  रिश्ते  मैय्यत  के  दौर  में।

उठते ही ज़नाज़े के जाने आँसू कहाँ जाता है।

  • `•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•

क्या तन क्या धन समूचा संसार ही छूट गया।

तिनका भी न ले जायेगा सच ही कहा जाता है।

  • `•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•

उसको मरे वर्षों हो गये किसी को ध्यान नही।

अब तस्वीर में हार बदला भी कहाँ जाता है।

  • `•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•

उसके  तख़्त  तक  पहुँचना  मुमकिन  नही।

सुनो लोगों से आज भी यही सुना कहा जाता है।

  • `•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•

जीते जी भूल से किसी ने मिज़ाज़ न पूछा कभी।

देखों  मरते  ही  ये  इंसां  लेकर  कहाँ  जाता  है।

  • `•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•

वह शख़्स जो इस दुनिया से ही चला जाता है।

उस तक को नही पता होता कि कहाँ जाता है।

  • `•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`•`

रचनाकार-मु.जुबेर हुसैन

8 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 31/08/2017
  2. md. juber husain md. juber husain 01/09/2017
  3. C.M. Sharma babucm 01/09/2017
    • md. juber husain md. juber husain 01/09/2017
    • md. juber husain md. juber husain 01/09/2017
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/09/2017
    • md. juber husain md. juber husain 01/09/2017

Leave a Reply