मैं जग मचाया शोर…सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

II छंद – गीतिका  II

अपनी अपनी सब कहते, अपनी ना पहचाने….
अपने को जब खो बैठे, आयी अक्ल ठिकाने…

चोरों का सरदार बना, लिए धर्म का ठेका…
कोवा हंस बना जब हो, होगा क्या खुदा का…

मन चंचंल फिरा भागा, बिना पैर ओ सर के….
नहीं ठोर जब मन में तो,वन वन है फिर भटके…

खोजत खोजत सब घूमा, मिला नहीं मुझे चोर…
वो मेरे अन्दर ही था, मैं जग मचाया शोर….
\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

(२६ मात्रा, १४-१२ यति, विषम चरणान्त दोहे जैसा)

16 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 29/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 30/08/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 30/08/2017
  3. chandramohan kisku chandramohan kisku 29/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 30/08/2017
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 29/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 30/08/2017
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 30/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 31/08/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 30/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 31/08/2017
  7. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 30/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 31/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 04/09/2017

Leave a Reply