झूठ और पाखण्ड — डी के निवातिया

झूठ और पाखण्ड

शिक्षा में कितने  भी अग्रणी हो जाइएगा
भले आप मंगल और चाँद पे हो आइएगा
ढोंगी बाबाओ से जब तक मुक्ति न मिले
झूठ – पाखण्ड से कैसे मुक्त हो पाइएगा !!
!
!
!
डी के निवातिया

12 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/08/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 28/08/2017
  3. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 28/08/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/09/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/09/2017
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 28/08/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/09/2017
  5. C.M. Sharma babucm 29/08/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/09/2017
  6. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 30/08/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/09/2017

Leave a Reply