सूरज के साथ साथ साथ

सूरजमुखी का खेत,
सुबह से शाम तक,
सूरज के साथ-साथ,
अपना चेहरा घुमाता हुआ।
वह शायद नहीं जानता,
कि पूरी पृथ्वी भी,
सूरज के सामने,
हमेशा अपना चेहरा नहीं करती है।
कभी-कभी उसकी पीठ,
होती है,
सूरज के सामने,
आैर चेहरा रात के अंधेरे में।
मैंने समझाया उस खेत को,
उसे बताया –
यह पूरे बर्ह्माण्ड का नियम है,
हर बड़े पिण्ड,
आैर शक्ति का कायदा है,
कभी चेहरा, कभी पीठ ़ ़ ़।
खेत समझ गया मेरी बात,
पर,
पृथ्वी को,
पूरे बर्ह्माण्ड को जानकर भी,
वह नहीं बदला।
सूरजमुखी के फूल,
आजकल धूप में तपकर,
अपने बीज बना रहे हैं।

Leave a Reply