विरोध के तीन तरीके

उस रोज ध्यान से देखा था,
चौराहे वाले फव्वारे को,
क,ि
ऊपर उछलना आैर हवा में बारीक बूंदों में बंटकर बहना,
फव्वारे की नियती नहीं है,
बल्िक पाइपों आैर टंिकयों में,
पूरे बल के साथ दबा दिए जाने के बाद,
एक वाल्व की,
सुनियोजित गुंजाइश से निकलकर,
पानी को,
पानी को भी,
पानी की तरलता को भी,
उठना पड़ता है,
ज़मीन के विरूद्ध ऊपर की आेर ़ ़ ़।
आैर यों,
हवा में तीखेपन से उठकर,
हवा में बिख़रकर,
फिर नीचे गिरकर,
वह उस यांित्रकी का विरोध करता है,
जो दबाती है उसकी तरलता।
तभी तो,
शब्द खुद ब खुद नहीं होते हैं,
भीतर कहीं होता है,
तरलता पर अनचाहा दबाव,
आैर शब्द नियोजित हो जाते हैं,
जीवन के कुछ अच्छे विरोधों के लिए।
कुछ ऐसे विरोधों के लिए,
जिन्हें नकारना,
उन मधुमक्खियों को नकारना है,
जो सारे संसार से मीठा इकट्ठा करती हैं,
आैर जीवन के अंितम विकल्प के रूप में काटती हैं,
क्योंकी वे पहली आैर आख़री बार काटती हैं,
क्योंकी काटने के बाद मर जाती हैं मधुमक्खियां,
आैर जब हम उन पर कटैत होने का आरोप लगाते हैं,
वे मर रही होती हैं,
आैर उनके छत्तों से टपक रही होती है,
पूरी संसार की मिठास ़ ़ ़।
एक आैर तरीके से होता है विरोध,
जैसे डराइंगरूम में सजा बोंसाई,
जो आज तक चला आया है,
अनुपजाऊ मिट्टी,
जरा से गमले में बस मुट्ठी भर ज़मीन,
थोड़ी सी हवा आैर चंद समय वाली धूप के साथ,
जीवन की इतनी प्रतिकूल संभावनाआें के बाद भी,
हम हर महीने काट देते हैं उसकी जड,
पर वह जिया,
वह जी रहा है बरसों से,
उसे नसीब नहीं है उसके हिस्से का जंगल,
उसके हिस्से का हवा-पानी,
शायद आगे भी ना हो,
आैर वह जितना जियेगा,
उतना ही कीमती बोंसाई बन जाएगा,
आैर उतनी ही बढ़कर पक्की हो जाएगी,
उसकी,
उसके हिस्से के जंगल आैर हवा-पानी से दूरी,
सदा के लिए ़ ़ ़।
वह जानता है यह सब,
आैर जानकर भी,
वह धीमे आैर भिड़े हुए हैं,
यह सिफ़र् उम्मीद की बात नहीं है,
बात है जीने की,
बिना शतर् विरोध की ़ ़ ़।
विरोध के इन तरीकों,
फव्वारा, मधुमक्खि आैर बोंसाई के अलावा भी,
कुछ आैर तरीकों से उठा जा सकता है,
विरोध के लिए,
अक्सर हम खुद ही तो उठाते हैं,
दरवाजे़ के सामने जमा बफ़र् हटाने के लिए फावडा।

Leave a Reply