चिराग बुझने न दें….सी.एम्. शर्मा (बब्बू)….

जलाएं है चिराग घर हमारे, शहीदों ने अपना लहू देके…
जात, पात और धर्म की आग से आओ इसे बुझने न दें…
\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

(साइट की प्रॉब्लम की वजह से डिलीट हो गयी यह रचना मेरी…फिर से पोस्ट की है…)

10 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 18/08/2017
  2. Kajalsoni 16/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 18/08/2017
  3. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 17/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 18/08/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 17/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 18/08/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 17/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 18/08/2017

Leave a Reply