जय श्री कृष्णा

जय श्री कृष्ण
kiran kapur gulati किरन कपूर गुलाटी 15/08/2017 No Comments
तुम कर लो चोरी माखन जितना
पर दिल को चुराना ठीक नहीं
आना तेरा बडा़ सोहे मुझको
पर छोड़ के जाना ठीक नहीं
दिल की बात कहती हूँ तुझसे
बहलाना मुझको ठीक नहीं
सुन लेते हो मन की बातें
कोई राज़ छुपाना ठीक नहीं

तन्हॉं कभी हो जाती हूँ
परेशानियों में घिर जाती हूँ
कभी कुछ समझ न पाती हूँ
चले आते हो बन लौ दिये की
और मन्द मन्द मुस्काते हो
जब क्यों कैसे में घिर जाती हूँ
मेरे कानों में कुछ कह जाते हो
अन्धकार कभी  डराता है मुझको
बुझते दीप जलाते हो
अब कैसे रहूँ  तुम बिन कान्हा
जब प्यार इतना बरसाते हो
न करना दूर चरणों से अपने
लगे न कभी तुम कतराते हो
सौंप दिया यह जीवन तुझको
तुम जान सब कुछ  जाते हो
बनाया दीवाना दुनिया को
जब बन्सी मधुर बजाते हो
बसे रहना सदा मन में यूँही
लगे तुम प्यार सदा  निभाते हो

करो स्वीकार वन्दन हमारा
जन्म दिवस है आज तुम्हारा
पात्र बधाई के हो तुम आज
है जग में सारे जिसका राज

बहुत बहुत सी तुम्हें बधाई
है शुभावसर जन्माष्टमी का
नाचें हम सब हो विभोर
जय हो तेरी श्री कृष्ण कन्हाई
हो जन्मदिवस की तुम्हें बधाई

10 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 16/08/2017
  2. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 16/08/2017
  3. Kajalsoni 16/08/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 17/08/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 17/08/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 22/08/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 17/08/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 22/08/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 22/08/2017

Leave a Reply