सागर….. काजल सोनी

बडी़ साधगी है तुझमें सागर……
गहराई का तुझको नाज नहीं……
दे जाता है मजबूत लहरें……
समेट लेता सब कुछ खुद में……
बयां करता जीवन की सच्चाई…..
कि मेरा कल भी पानी……
आज भी पानी……
करु गुरुर खूद पर……
तो भी हो जाऊं…..

……………बस पानी पानी………

” काजल सोनी ”

7 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 12/08/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 12/08/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/08/2017
  4. C.M. Sharma babucm 12/08/2017
  5. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 13/08/2017

Leave a Reply