हिलि मिलि लीजिये प्रवीनन ते आठो याम

हिलि मिलि लीजिये प्रवीनन ते आठो याम

कीजिये अराम जासोँ जिय को अराम है ।
दीजिये दरस जाको देखिबे की हौँस होय

कीजिये न काम जासे नाम बदनाम है ।
ठाकुर कहत यह मन मे बिचारि देखौ

जस अपजस को करैया सब राम है ।
रूप सो रतन पाय चातुरी सो धन पाय

नाहक गँवाइबो गँवारन को काम है ॥

Leave a Reply