सेवक सिपाही सदा उन रजपूतन के

सेवक सिपाही सदा उन रजपूतन के

दान युद्ध वीरता मेँ नेकु जे न मुरके ।
जस के करैया हैँ मही के महिपालन के

हिय के विशुद्ध हैँ सनेही साँचे उर के ।
ठाकुर कहत हम बैरी बेवकूफन के

जालिम दमाद हैँ अदेनिया ससुर के ।
चोजन के चोजी महा मौजिन के महाराज

हम कविराज हैँ पै चाकर चतुर के ॥

Leave a Reply