वा निरमोहिनि रूप की रासि न ऊपर के मन आनति ह्वै है

वा निरमोहिनि रूप की रासि न ऊपर के मन आनति ह्वै है ।
बारहि बार बिलोकि घरी घरी सूरति तो पहिचानति ह्वै है ।
ठाकुर या मन की परतीति है जा पै सनेह न मानति ह्वै है ।
आवत हैँ नित मेरे लिये ईतनो तो विशेषहि जानति ह्वै है ॥

Leave a Reply