आया आया राखी का त्यौहार रे – डी के निवातिया

राखी का त्यौहार

***

आया आया राखी का त्यौहार रे
लाया लाया खुशियों का उपहार रे
भाई बहन के अटूट प्रेम का बंधन
छाया छाया सावन में ये खुमार रे ..!!

आया आया राखी का त्यौहार रे !
लाया लाया खुशियों का उपहार रे !!

कुमकुम अक्षत रोली चन्दन
इनसे करूं  मै आरती वन्दन
अपनी खुशिया तुझ पर वारु
कभी कम न हो अपना प्यार रे !!

आया आया राखी का त्यौहार रे !
लाया लाया खुशियों का उपहार रे !!

जब जब भी मै रोऊ भैया
तुम मुझको हसाना भैया
मेरी रक्षा का वचन भर के
बँधाले ये रेशम का तार रे !!

आया आया राखी का त्यौहार रे !
लाया लाया खुशियों का उपहार रे !!

भाई बहन हम साथ चलेंगे
एक दूजे के हम दुःख हरेंगे
पुष्प मधु सा अपना जीवन
खुशियों से भरा हो संसार रे !!

आया आया राखी का त्यौहार रे !
लाया लाया खुशियों का उपहार रे !!

प्रेम बंधन के सजीले धागे
भाई बहन के प्रेम को साधे
नोक झोंक अपनी चलती रहे
पर कभी न हो अपनी टकरार रे !!

आया आया राखी का त्यौहार रे !
लाया लाया खुशियों का उपहार रे !!

!

— डी के निवातिया —

13 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/08/2017
  2. mani mani 05/08/2017
  3. bhupendradave 05/08/2017
  4. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 06/08/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 06/08/2017
  6. babucm babucm 06/08/2017
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 06/08/2017
  8. Madhu tiwari madhu tiwari 06/08/2017
  9. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 06/08/2017
  10. raquimali raquimali 07/08/2017
  11. Kajalsoni 09/08/2017

Leave a Reply