संविधान निर्माता

जय हे ! संविधान निर्माता

जय हे ! संविधान निर्माता
जग जीवन के हो सुख दाता

रत्न अमूल्य हो सकल धरा के
तुमसे ही ये गुलशन महके
*जन जन कितना सुख है पाता*

जय हे ! संविधान निर्माता

भारतरत्न सुयत्न से अपने
जग को दिखाये सुंदर सपने
तेरा सुयश सकल जन गाता

जय हे ! संविधान निर्माता

कर्दम से बाहर तुम निकले
बढ़ते कदम नही है फिसले
*सबल निबल से जोड़े नाता*

जय हे ! संविधान निर्माता

शिक्षा से सिंचित ये चमन है
तव गुण से ये सजा वतन है
*सुकर्म तेरा सबको भाता*

जय हे ! संविधान निर्माता

युग पददलित ज्वलित कुंठा से
सजा दिया निज उत्कंठा से
विधि सम्मत सब जीता खाता

जय हे ! संविधान निर्माता

वर्तमान भविष्य भूत हो
प्रतीची प्राची के सपूत हो
कीर्ति ध्वजा नभ में लहराता

जय हे ! संविधान निर्माता

वक्ता हो अधिवक्ता हो तुम
वृहद समाज प्रवक्ता हो तुम
जन गन मन ये शीश झुकाता

जय हे ! संविधान निर्माता

डॉ. छोटेलाल सिंह ( प्रवक्ता )

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 03/08/2017
  2. kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 04/08/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 04/08/2017
  4. Kajalsoni 04/08/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/08/2017
  6. babucm babucm 04/08/2017
  7. chandramohan kisku chandramohan kisku 04/08/2017
  8. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 05/08/2017

Leave a Reply