यह प्रेम कथा कहिये किहि सोँ जो कहै तो कहा कोऊ मानत है

यह प्रेम कथा कहिये किहि सोँ जो कहै तो कहा कोऊ मानत है ।
सब ऊपरी धीर धरायो चहै तन रोग नहीँ पहिचानत है ।
कहि ठाकुर जाहि लगी कसिकै सु तौ वै कसकैँ उर आनत है ।
बिन आपने पाँव बिबाँई भये कोऊ पीर पराई न जानत है ॥

Leave a Reply