कुछ दिल से

दुखी तो सब है यहाँ
तुझमे क्या नया है
रो तो सभी रहे है
तुम्हारा हाल-ए-बयां क्या है

किसी की आँखों से दर्द झलकता है
किसी की बातों से दर्द झलकता है
दर्द में तो तुम भी दिखते हो
तुम्हारी दर्द-ए-दास्तां क्या है

अपना गम जाहिर न करना मेरे दोस्त
लोग मज़ा लेंगे
मदद कोई नहीं करेगा
तुम्हारे दर्द को सिर्फ हवा देंगे

बन ऐसा
की लोग मिसाल दे
दर्द भी मुस्करा कर पूछे
बता तेरा इरादे-बयां-क्या है

18 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/08/2017
    • sudarshan41 01/08/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 01/08/2017
    • sudarshan41 01/08/2017
    • sudarshan41 01/08/2017
        • sudarshan41 02/08/2017
  3. Dr Chhote Lal Singh Dr Chhote Lal Singh 01/08/2017
    • sudarshan41 02/08/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 01/08/2017
    • sudarshan41 02/08/2017
  5. babucm babucm 02/08/2017
    • sudarshan41 02/08/2017
    • sudarshan41 03/08/2017
  6. Madhu tiwari madhu tiwari 03/08/2017
    • sudarshan41 03/08/2017

Leave a Reply