नमो देव भोले…सी. एम्. शर्मा (बब्बू)…

II छंद – भुजंगप्रयात II

नमो देव भोले नमो देवनाथं   I
नमो शंकरा सर्व भूताधिवासं II
नमो शूलपाणी विरूपाक्ष रूद्रं I
नमो अंबिकानाथ पादार्विन्दं  II

(नमन करता हूँ मैं उस शिव को जो भोले हैं जो देवों के नाथ हैं…नमन करता हूँ मैं उस शंकर को जो सब का भला करते हैं सब में निवास करते हैं….नमन मेरा त्रिशूल धारी विचित्र आँख वाले (तीन नेत्र वाले) रूद्र को….नमन मेरा गौरी…अम्बिका नाथ को जिनके चरण कमल जैसे हैं….)

\
/सी. एम्. शर्मा (बब्बू)
(भुजंगप्रयात छंद (यमाता यमाता यमाता यमाता या १२२ १२२ १२२ १२२) में लिखी जाने वाली छंद है…यहाँ तक जानता हूँ….श्री रामचरितमानस में गोस्वामी तुलसीदास जी द्वारा रचित ‘रुद्राष्टकम’ ही प्रेरणास्रोत है मेरा इस छंद को लिखने का…)

18 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 02/08/2017
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 01/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 02/08/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 01/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 02/08/2017
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 01/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 02/08/2017
  5. kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 01/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 02/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 03/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 03/08/2017
  6. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 03/08/2017
  7. Madhu tiwari madhu tiwari 03/08/2017
    • C.M. Sharma babucm 03/08/2017

Leave a Reply