यादें

बीते हुए पल
कभी लौट कर नहीं आते।
वापस नहीं हो सकती
एक बार जुबान से निकली हुई बाते।
नहीं भूली जा सकती
अपनों के साथ हुई मुलाकातें।
“सुखबीर” जी ले आज अपनी जिंदगी
कल तो बन जाएगी ये सब यादें।

5 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/07/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/07/2017
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 29/07/2017
  4. Madhu tiwari madhu tiwari 30/07/2017
  5. babucm babucm 31/07/2017

Leave a Reply